Friday, April 5, 2013

विजय सिंह की नई कविताएं : विशेष प्रस्‍तुति


विजय सिंह अपनी उत्‍कट लोक प्रतिबद्धता के कारण हिंदी कविता में एक सुपरिचित नाम हैं। उन्‍हें लिखते कई बरस हुए। उनके लिए अपना जिया हुआ लोक जीवन ही उनकी कविता है....वे अपनी कविता को जीने वाले कवि हैं। दूर कहीं बैठकर लोक को भुनाने और सरलीकृत करने वाले कवियों से अलग उनकी अपनी एक गरिमा है। मैं केशव तिवारी और उन्‍हें लोकाभिव्‍यक्ति के लिहाज से बहुत सम्‍मान देता हूं। ये दोनों ही आज सच्‍चे अर्थ में अपने जनपद के कवि हैं, जिनकी कविता का विस्‍तार सहज ही हमें बहुत दूर और बहुत जटिल राजनीतिक-सामाजिक संरचनाओं में ले जाता है । विजय अपनी कविता में लोक के ब्‍यौरे और दृश्‍य देते चलते हैं और पाठक कब उन अनदेखी राहों पर उनके साथ चल पड़ता है, उसे पता ही नहीं चलता। चूंकि यह एक लम्‍बी पोस्‍ट होने जा रही है, इसलिए अधिक कुछ नहीं कहूंगा...बस अपने प्रिय इस कवि को शुक्रिया कहने के सिवा।
***

दूध नदी  
        
 दूध नदी* की कल कल से
                            मैने कई बार
                            गड़िया पहाड़ के शिखर को
                            छुआ है

                            नदी का नाम
                            दूध नदी
                            कैसे पड़ा
                            क्या गड़िया पहाड़ जानता है
                            या जानते हैं शहर के लोग

                            मुझे पता है
                            गड़िया पहाड़ की
                            मुंह लगी है दूध नदी
                            गड़िया पहाड़ है तो दूध नदी है
                            दूध नदी है तो शहर है

                            दूध नदी को जानने वाले
                            लोग कहां गये ?
                            वे जानते थे
                            दूध की तरह उफनती नदी से
                            उनके खेतों में आती थी हरियाली
                           
                            उनका मानना था
                            इसके पानी में दूध जैसी मिठास है
                            जिसको चख कर वे
                            निहाल हो जाया करते थे
                           
                            वे दिन पानी की तरह पारदर्शी और
                            दूध की तरह सुन्दर थे इसलिए
                            शहर में चमक थी
                            और यहां बसने वाले का मन
                            फूल की तरह खिला हुआ था

                            दूध नदी को जानने वाले लोग
                            अब शहर में नही रहे
                            नही रहा वह किस्सा
                            जब गड़िया पहाड़ का बाघ
                            नदी के दूधिया पानी में उतरकर मुंह धोता
                            और नदी की मछलियों से बतियाता रेत में खेलता
                            और पालतू जानवर की तरह वापस
                            चल देता जंगल की ओर
                           
                            आज भी
                            गड़िया पहाड़ के जानवर 
                            दूध नदी के पास आते हैं
                            लेकिन उल्टे पांव 
                            लौट जाते है जंगल की ओर
                            दूध नदी से नही डरते
                            गड़िया पहाड़ के जानवर
                            डरते हैं शहर के लोगो से
                            जहां भीड़ है, शोर शराबा है
                            बंदूक की आवाज़ हैं
                                   
 दूध नदी कबसे
 शहर में बह रही है
 यह किस
 हालात में हैं ?
 कोई नही जानता

 जबकि
 दूध नदी के पुल से निकलती है हज़ार - हज़ार
 किसम - किसम की गाडि़याँ, लक्जरी बसें और जाने क्या - क्या

 रोज दिन यही से कितने यात्री पहुंचते है
 अपने - अपने घर

 यही से गुजरता है लालबत्ती में बैठे मंत्रियों
 अधिकारियों का काफिला

 पढने वाले छात्र - छात्राएं यही से होकर
 पहुंचते है अपने स्कूल - कालेज

 आफिस - कचहरी बाजार जाने वाले लोगों का
 रास्ता भी यही है

 और तो और

 सब्जी बेचने वालो की बैल गाडियां भी
 रोज सुबह धूल उडाती, धड़धड़ाती दूध नदी के
 उपर से निकलती है

लेकिन किसी के चर्चे में
किसी की बातचीत में
दूध नदी नही आती

जबकि
बरसो से राजापारा, अन्नापूर्णापारा, भाण्डारीपारा
और शहर के अनेक घरों के चौखट को
छूती एक आस लिए, बूंद - बूंद बह रही है दूध नदी
कि कभी उसकी आंखों में समुद्र का पानी लहरायेगा

मुख्य बाजार के लकदक - भागमदौड़ के बीच
शहर के पुराने पुल को अपनी बांहों में थामे
कब से लोगों के चेहरों को देख रही है दूध नदी

कि आयेंगे उसके पास शहर के लोग
राजीखुशी पूछेंगे, पूछेंगे हाल - चाल
लेकिन कोई नही आता
आते भी है शहर की सारी गंदगी छोड
उसे और मरने के लिए छोड जाते है

जबकि वे जानते है
कि शहर के हृदय मे बहने वाली इकलौती
नदी है दूध नदी

शहर के लोग नही जानते ?
कि दूध नदी मलाजकंडूम से निकलकर
महानदी के सरंगपाल मे मिलती है
कि दूध नदी से गुजरती है राष्ट्रीय राजमार्ग
कि दूध नदी के पूल से एक शहर दूसरे शहर को जोडता है
कि दूध नदी से शहर की पहचान है

मुझे पता है
गड़िया  पहाड़ शहर का चौड़ा माथा है
जिससे लोगो के चेहरों मे चमक है
तो
दूध नदी शहर का धडकता हुआ दिल
जिससे शहर की सांसें चलती हैं

मुझे दुख है
कि शहर के लोग यह नही जानते

दूध नदी को मै जानता हूँ
और दूध नदी मुझे
जब भी इसके पास से गुजरता हूँ
यह मुझे पुकारती है
इसकी आवाज सुन इसके पास बैठता हूं

देख सकता हूं
इसकी आंखों में पानी नही है

दूध नदी
कबसे पुकार रही है

जिसे मेरे साथ, गड़िया पहाड़ के अलावा
और कोई सुनना नहीं चाहता
----------------
*कांकेर शहर में बहने वाली नदी                    
***
तिरिया जंगल  

तिरिया का जंगल
                                  अभिशप्त नही है               
                                  सन्नाटे के लिए
                                  काली मकड़ी जानती है
                                  और बुनती है
तिरिया जंगल में
                                  अपना घर

तिरिया के जंगल मे
                                 लाल चीटियां
                                 पत्तियों की मुस्कान मे
                                 रचती है अपना संसार
                                 और टुकुर टुकुर
                                 देखती हैं
                                 बाहर की दुनिया को

                                 कभी-कभी
                                 बांस की झुरमुट से
                                 गुर्राता है
तिरिया जंगल का बाघ
                                 और
                                 तिरिया का जंगल
                                 हंस पड़ता है

                                 अक्सर चैत- बैसाख की दुपहरी में
                                 आसमान का लाल सूरज
                                 तिरिया के जंगल मे आग उगलता है।
और पंडकी चिड़िया
सागौन की डाल से गाती है गाना
जिसे गांव की स्त्रियां सुनती हैं
                                 यह वह समय है
                                 जब गांव की स्त्रियां
                                 मुंड मे टुकनी उठाये
                                 वनोपज के लिए
                                 तिरिया जंगल की ओर निकलती हैं
गांव की स्त्रियों की पदचाप सुन
तिरिया जंगल के तेन्दू फल पक कर  गिरते हैं
                                    टप टप घरती में

                                    आम और चार
                                    पक कर करते है
                                    स्त्रियों के पास आने का
                                    इंतजार
                                    गांव की स्त्रियां
                                    धूप-धूप
                                    छांव-छांव
                                    पेड़-पेड़
                                   भरी दोपहरी में
                                   बेखौफ़ होकर घूमतीं है
तिरिया के जंगल मे
                                    गांव की स्त्रियां तिरिया के जंगल को जानती हैं
तिरिया का जंगल
                                   गांव की स्त्रियों को पहचानता है और जानता है

                                    यह वह समय है
जब तिरिया का जंगल
गांव की स्त्रियों की हंसी में
खिलखिलाता- झूमता है, सरई पत्तों
आम, चार
और तेन्दू से भरी टुकनी मुंड मे उठाए
जब लौटती हैं
गांव के स्त्रियां अपने घर
तब तिरिया जंगल एकदम चुप हो जाता है
तिरिया जंगल की यह चुप्पी
आपको डरा सकती है ।
*** 
बोड़ा  

पहली बारिश में
भीगकर
जंगल की मिट्टी हॅंसती है
और
धूप की उजास मे
सरई जंगल
जी उठता है

सरई जंगल मे
यह
बोड़ा के आँख
खोलने का समय है

और उधर दूर
बिहाने - बिहाने1 ,
टुकनी मुंड मे उठाये
हाथ में कुटकी2 लिये
गांव की औरतें 
बोड़ा कोदने3 के लिये
निकल पड़ती है जंगल की ओर

वे पहुंचती हैं सरई के जंगल में
एक पंक्ति
एक लय
एक ताल में

वे जानती है
बोड़ा कोई नही बोता
सरई जंगल बोता है
प्रकृति की छांव में

वे जानती हैं
छोटा-मटमैला
जंगल का बोलता गोला
धरती का सीना चीर
किस जगह
शहर के बाजार को
आंख तरेरने के लिये
फूटता है

वे लोहुन -लोहुन4
पाना5 को हटा हटाकर
भुई6 को कोदती7
बोड़ा को बीनती हँसती बतियाती
सरई जंगल में आगे बढ़ती है

और
बोड़ा टुकनी और सोली8 - पैली9 उठाये
बोड़ा बेचने
दस-दस बीस-बीस कोस दूर गांव से
नंगे पांव चली आती है
जगदलपुर के बाजार में

वे आती है
और
बाजार में हड़कम्प मच जाता है

बोड़ा-बोड़ा के शोर में
बोड़ा के स्वाद में
अच्छे खासे
शहर के बाजार को
सांप सूंघ जाता है

वे नापती है
सोली पैली में बोड़ा
बोड़ा खरीदने वालों
की भीड़ में
हर बार हारता है
शहर का हाइब्रिड बाजार
     
 ---------------------
1 सुबह-सुबह  2 छोटी लकडी  3 खोदना 4 झुक-झुक कर 5 पत्ती 6 भूमि खोदना 8-9 नाप का पुराना पैमाना
***        
इस समय से  
(लीलाधर मण्डलोई की कविता पढ़कर)
                
एक अच्छी कविता
पढ़कर जी उठा

जाग गये
मेरे दिन

यश हंसा सूरज हंसा
हंसी सरिता
आज मिली चिट्ठी मे हंसे
नरेश चन्द्रकर के सुन्दर-सुन्दर
अक्षर

खिड़की में बोली
खूब दिन बाद चिड़िया  
बोले बाबा
बोली माँ
बोली पडोस की
चुप-चुप बिटिया

मई की ठेठ धूप में
ईमली पेड़ की सूखी पत्तियां मुस्कुराई
मुस्कुराया तपता सड़क
मुस्कराये सड़क मे चलते लोग

मै मुस्कुराया
काम में जाते - जाते

मैं नही डरा
इस समय से
***
छानी में तोरई  फूल  
                       
लखमू के बाड़ी में खिल रहे हैं
किसम - किसम के फूल

जोंदरा1 अभी पका नहीं है
पका नही है मुनगा फूल

पपीता अभी पकेगा
पकेगा फनस2

भात अभी पका नही है
चूडे़गा अभी सुकसी3 साग

हांडी में अभी लांदा4, बदबदायेगा
छानी से उठेगा धुंआ

नागर से खेत जोतेगा
माथे में पसीना चमकेगा
और मुंडबेरा5 डेरा में लौटेगा लखमू

चापडा चटनी6 पिसेगा
और तूंबा में रखा सलफी7 पियेगा

खायेगा भात
खायेगा सुकसी साग

सोनमती हॅंसेगी
हॅंसेगी डोकरी आया

सोनमती, आया को भात देगी
और नोनी को मडि़या पेज8
           
यह सब देख
लखमू की छानी में
तोरई फूल और रंग बिखरेगा
आसमान हॅंसेगा
हँसेगी छानी में बैठी नानी चिरई9,

इस तरह
खिलेगा गांव में
एक और सुन्दर दिन
-------------------------
1 भुट्टा 2 कटहल 3 सूखी मछली  4 चाँवल से बना नशीला पदार्थ  5 दोपहर का समय 6 जंगली चिटियों की           चटनी 7 पेड  से निकला पेय पदार्थ 8 तरल भोज्य पदार्थ 9 छोटी चिड़िया   
***        
तालाब  
           
तालाब अभी सूखा है
                             
यह हमेशा
सूखा नही रहेगा
                             
आज नही
तो
कल
                          
कुदाल फावड़ा लेकर
आयेंगे
प्यासे लोग

तालाब खोदेंगे
और
अपनी प्यास बुझायेंगे
***
जंगल का समय
      
अंधेरे में
जाग रहे है खेत

बीज के लिये
आतुर मिट्टी अभी
करवट ले रही है

पगडंडी में
सुस्ता रहे हैं पावों
के निशान

वृक्ष थपकी
देकर पत्तियों को
सुलाने की कोशिश कर रहे हैं
जुगनूओं की चमक में
अंधेरा और निखर रहा है
जमीन की सूखी पत्तियां
खड़क-खड़क कर लोरियां
गा रही है जिसे पेड़ मे बैठी
चिड़िया  सुन रही है

दूर गांव में बज रहा है मांदर
और आसमान में
लुका - छुपी खेल रहा है चांद
हवा की दिशा में कोई ज़हरीला सांप
खेत, लांघ रहा है
बांस की झुरमुट में
बेफिक्र सोया पड़ा है बाघ

जंगल मे रात दबे पांव नही आती है
आती है तैयारी के साथ
सन्नाटे में गूंजती है
उसकी आवाज सांय-सांय
और
अंधेरे की मचान में
उसकी आंखें टिमटिमाती है
                                                                                  
                                नींद में जागता है जंगल 
                                और थोड़ी सी आहट से
                                सांप के फन की
                                तरह उठ खड़ा होता है

                                जंगल का समय
                                                हमसे
                                                अधिक चौकन्ना है  
  ***             
धरती एक फूल है   
                         
धरती एक फूल है
चिड़िया  जानती है
इसलिए
हौले से चुगती है दाना
और फुर्र से
उड़ जाती है आकाश में

धरती एक फूल
वृक्ष जानते हैं
तभी वे
आँधी -तूफान में भी
नहीं छोड़ते अपनी जमीन

धरती एक फूल है
चीटियाँ जानती है
इसलिए हल्के से सहेजकर
ले जाती है दाना -पानी

धरती एक फूल है
नदियाँ जानती हैं
इसलिए हर- हमेश
पृथ्वी को रखती है नम

धरती एक फूल है
जंगली जानवर जानते हैं
इसलिए उनके चलने की
नही आती आवाज ।

क्या आप जानते हैं
                        धरती एक फूल है
***
कवि- परिचय
जन्म    : 18 जुलाई 1962, जगदलपुर (बस्तर)
शिक्षा    : बी.एस.सी.(एजी.) एम.ए.(हिन्दी, साहित्य)
गतिविधियाँ -सन 1985 से बस्तर में समर्पित रंगकर्म , ‘इप्टासे रंगकर्म की शुरूआत, अभी तक दो दर्जन से अधिक नाटको में अभिनय/कांकेर, कोण्डागाँव, जगदलपुर, भिलाई और डोंगरगांव के रंग शिविर का निर्देशन /संचालन ।
निर्देशित महत्वपूर्ण नाटक -ई, मातादीन चांद पर, लोककथा 88, मशीन, बाबा बोलता है, गिरगिट, जंगीराम की हवेली, समरथ को नाही दोष गुसांई, राजा मांगे पसीना, चन्द्रमा सिंह उर्फ चमकू, पोस्टर, दण्डनायक, आला अफसर, घोटुल ।
14 वर्षो से बच्चो के साथ रंगकर्म –बच्चों के लिए निर्देशित महत्वपूर्ण नाटक -अंधेर नगरी चौपट राजा, टंकारा का गाना, बीता राम की कहानी, इच्‍छापूर्ति, एक था बूढ़ा, गोपी गव्वैया -बाधा बजैया, चंदामामा की जय, चन्दरू, हिरणकश्‍यप मर्डर केस, लकड़हारे की शादी, चूँ- चूँ मौज उड़ाऊँगा, चिरी की नानी, थोड़ो जोर से खीचों और कलिन्दर बेटा ।
शिक्षा मिशन के लिए शैक्षणिक टेली फिल्म खेल-खेल मे पाठ पढे़ का लेखन निर्देशन जगदलपुर दूरदर्शन के लिए टेली फिल्म का निर्देशन व अभिनय ।
सर्वनाम पत्रिका द्वारा विजय सिंह केद्रित अंक 89 प्रकाशित। सन 09 मे कविता संग्रह बंद टाकीज प्रकाशित।
संपादित ग्रंथ : छत्तीसगढ़ की प्रतिनिधि कविताओं का संग्रह पूरी रंगत के साथ साहित्यिक पत्रिका समकालीन सूत्र का संपादन
देश के सभी महत्वपूर्ण साहित्यिक पत्रिकाओं मे कविताएं एवं रंगकर्म से संबंधित वैचारिक लेख प्रकाशित जगदलपुर आकाशवाणी और दूरदर्शन से कविता व कहानी का नियमित प्रसारण ।
पुरस्कार/सम्मान: कविता के लिए – 1.  पंडित गंगाधर सामंत पुरस्कार 2. दलित साहित्य अकादमी पुरस्कार
3.विशिष्‍ट सम्मान जज्बा फाउडेंशन जांजगीर / रंगकर्म के लिए – 1. पाठ सम्मान 2010  2.वंदना आर्ट कोण्डागांव द्वारा सम्मानित 3.लायंस क्‍लब ग्रेटर जगदलपुर द्वारा सम्मानित  
सम्प्रति-      डिपो प्रबंधक ,.. पाठ्यपुस्तक निगम जगदलपुर
सम्पर्क -     बंद टाकीज के सामने
                 जगदलपुर (बस्तर) छ.. पिन 494001
                  मो. नं0.94242-85311

20 comments:

  1. बहुत अच्छी कवितायेँ हैं । छत्तीसगढ़ की मिटटी से जुडी हुईं ।

    ReplyDelete
  2. shirish bhai anunad mai sahjta ke sth kavitao ko jagah dene ke liye bahut bahut dhnyawad ...........

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे विजय भाई धन्‍यवाद तो अनुनाद आपको दे रहा है... आप धन्‍यवाद देकर शर्मिन्‍दा मत कीजिएा

      Delete
  3. उल्लेखनीय बात है कि कविताओं में लोक-संवेग की अलग-अलग तहें, बोध और चेतना के स्तर पर जितनी तेजी से द्वंद्वात्मक होती चली जाती हैं; उतनी ही मंथरता से निजी और सामाजिक आयामों में पसरे एक सिलसिलेवार विस्थापन को भी चिन्हित करती हैं................... विजय जी को और अनुनाद को बधाई.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुबोध इसी बिंदु पर अनुनाद को कुछ लिख भेजिए...आज की हिंदी कविता में लोक की अवधारणा को एक स्‍वस्‍थ बहस की सख्‍़त ज़रूरत है... आपसे हमेशा अनुरोध रहा है हमारा कुछ भेजने का ...आप हैं कि टालते जाते हैं....

      Delete
  4. बहुत अच्छी कवितायेँ

    ReplyDelete
  5. bahut achcha laga..khas kar ke Jangal ka samay aur Doodh nadi

    ReplyDelete
  6. Bahoot khoob. Vijay jee , Shirish jee aapka abhaar.

    ReplyDelete
  7. एक अच्छे कवि की अच्छी कविताएँ। जब से इस कवि को जाना है, बार-बार पढ़ा है उन्हें। लेकिन नीलाभ जब कविता पर टीप लिखते हैं तो भूल जाते हैं कि ऐसे कवि भी हैं।

    ReplyDelete
  8. मेरे पास तारीफ के शब्द नहीं है इतनी खूबसूरत कविताओं के लिये। लम्बे समय तक ये मेरे साथ रहेंगी।

    ReplyDelete
  9. Vijay ki nayi kavithaon ko padhkar acha laga. Khubsurata kavithayeim hain, Sajha karne ke liye sishir ji ko badhayi and vijay singh ji ko badhayi.

    ReplyDelete
  10. A great poet writes about what he actually feels about his sourounding and he analysis it completely and carefully and my papa's poems is great mixture of that all ..........bastar's life,culture,tradition,and its big heart is inside my father...and when he writes poems it just describe about the bastar...after reading all the poems i just wanna say its just wowwww...........

    ReplyDelete
    Replies
    1. विजय जी आपकी आई डी से आई इस टिप्‍पणी के प्रेषक का नामोल्‍लेख भी हो जाए...हम भी जान लेंगे बेटे का नाम.... -:)

      Delete
  11. shirish bhai,bete ka naam prakhar singh hah ...class 11 mai hah mere sath theatre bi karta hah kabi kabi kavitae bi padhta hah lekin cricket ka deewana hah meri kavitae padkar usne yeh tippadiyan ki hah

    ReplyDelete
  12. shukriya Shirish itni achchhi kavitayein padhwane ke liye...

    ReplyDelete
  13. बाप रे बाप ... एक साथ इतनी सारी अच्छी कविताएं वह भी एक स्थान पर ...गजब है यह मैं तो कहता हूँ जो अच्छी कविताओं के, जीतने भी खोजी लोग हैं काश ! उन सभी तक ये कविताएं पहुंचे... विजय की कविताएं मारक होती ही है , ये कविताएं तो विशेषकर दूधी नदी वाली कविता और धरती एक फूल है --- दोनों बहुत तेज और असरदार कविताएं हैं ... विजय की कविताएं बहुस्तरीय अर्थ की मिठास से लिपटी हुई कविताएं होती है ! विजय भाई को शुभकामनाएँ और शिरीष भाई को धन्यवाद

    ReplyDelete
  14. बाप रे बाप ... एक साथ इतनी सारी अच्छी कविताएं वह भी एक स्थान पर ...गजब है यह मैं तो कहता हूँ जो अच्छी कविताओं के, जीतने भी खोजी लोग हैं काश ! उन सभी तक ये कविताएं पहुंचे... विजय की कविताएं मारक होती ही है , ये कविताएं तो विशेषकर दूधी नदी वाली कविता और धरती एक फूल है --- दोनों बहुत तेज और असरदार कविताएं हैं ... विजय की कविताएं बहुस्तरीय अर्थ की मिठास से लिपटी हुई कविताएं होती है ! विजय भाई को शुभकामनाएँ और शिरीष भाई को धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. जीवंत कविताएं । अग्रज विजय सिंह की कविताएं जो अपनी माटी की सोंधी महक के साथ उपस्थित हैं। बधाई स्वीकारें कवि महोदय ।

    ReplyDelete
  16. सुंदर मार्मिक कविताएँ..साधुवाद.

    ReplyDelete
  17. bahut hi khushi ki bat hai ki hamare mitra vijay our unki kavitaon ko log itna pyar dete hain

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails