Saturday, April 7, 2012

तिब्बत -उदय प्रकाश

नैनीताल के भोटिया मार्केट यानी तिब्बती मूल के लोगों के बाज़ार और तिब्बत को लेकर चल रहे आन्दोलन में उनकी भागीदारी को देखते हुए लगातार उदय जी के ये कविता याद आया करती है...
***


तिब्बत से आये हुए
लामा घूमते रहते हैं
आजकल मंत्र बुदबुदाते

उनके खच्चरों के झुंड
बगीचों में उतरते हैं
गेंदे के पौधों को नहीं चरते

गेंदे के एक फूल में
कितने फूल होते हैं
पापा ?

तिब्बत में बरसात
जब होती है
तब हम किस मौसम में
होते हैं ?

तिब्बत में जब तीन बजते हैं
तब हम किस समय में
होते हैं ?

तिब्बत में
गेंदे के फूल होते हैं
क्या पापा ?

लामा शंख बजाते है पापा?

पापा लामाओं को
कंबल ओढ़ कर
अंधेरे में
तेज़-तेज़ चलते हुए देखा है
कभी ?

जब लोग मर जाते हैं
तब उनकी कब्रों के चारों ओर
सिर झुका कर
खड़े हो जाते हैं लामा

वे मंत्र नहीं पढ़ते।

वे फुसफुसाते हैं ….तिब्बत
..तिब्बत …
तिब्बत - तिब्बत
….तिब्बत - तिब्बत - तिब्बत
तिब्बत-तिब्बत ..
..तिब्बत …..
….. तिब्बत -तिब्बत
तिब्बत …….

और रोते रहते हैं
रात-रात भर।

क्या लामा
हमारी तरह ही
रोते हैं
पापा ?
***


11 comments:

  1. वाह!!!!
    निःशब्द हूँ....

    एक सुंदर सामायिक रचना सांझा करने का शुक्रिया.

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. सचमुच बच्‍चों के सवाल ऐसे ही होते हैं कि हमारे पास कोई जवाब नहीं होता। चाहे वह तिब्‍बत के बारे में हो चाहे हमारे अपने में बारे में।

    ReplyDelete
  3. शब्द कितने सशक्त होते हैं ऐसी रचनाएं पढ कर ही महसूस होता है ।

    ReplyDelete
  4. कविता के रहस्य को मिल गया शांति का नोबेल पुरस्कार !!

    ReplyDelete
  5. शिरीष भाई, नैनी ताल भोटिया मार्केट तिब्बती मूल के भोट लोगों का है या भारतीय हिमालयी " भोटिया" समुदाय का ? इधर इन दोनो समुदायों को अलग अलग देखना निहायत ही ज़रूरी हो गया है . महज़ जानकारी के लिये पूछना चाह रहा हूँ. मैं नैनी ताल कभी नहीं गया हूँ.

    ReplyDelete
  6. एक टीस उठती है इन शब्दों से और लगता है नरम-नरम से फूल सरीखे शब्द कितना अंदर तक नश्तर चुभोते हैं

    ReplyDelete
  7. बकौल अजेय

    कविता के रहस्य को मिल गया शांति का नोबेल पुरस्कार !!

    अदभुद

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails