Saturday, January 28, 2012

आजकल






मेरा पालतू कुत्ता
जो पहले चिडि़यों को हैरत से तका करता और भौंकता था
घात लगाने लगा है आजकल उनपर
छोटे पिल्ले से जवान होते हुए
उसमें खेलने की बजाए खाने की हसरत जागने लगी है

बेटा कुछ और बड़ा हुआ
मेरे कंधे तक आने लगा है
खेल में वह लेग स्पिनर हो गया है स्कूल टीम का
संगीत में बजाने लगा है तबला तीन क़ायदों के साथ
वाचालता में वक्ता हो गया है
वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में ज़ोर-आजमाइश करता हुआ

आजकल उसकी किताबें कुछ और कठिन हुई हैं
एल सी एम एच सी एफ
फ्यूचर कंटीन्यूीअस टेंस
ओरिजन ऑफ यूनीवर्स वगैरह होती हुई
अभी वह पांचवी में है
पर मैं बारहवीं के बारे में सोचने लगा हूं आजकल

मेरी नौकरी की जगह भी भरने लगी है
नवनियुक्त प्राध्यापकों से

पुराने रौबीले चेहरे प्रोफेसरों के मूंछदार
कड़क आवाज़ वाले नहीं दिखते आजकल

शिरीष कहकर बुलाने वाले कुछ ही बचे हैं
सर कहकर बुलाया जाने लगा है अब मुझे
शायद कनपटी पर दो-चार सफ़ेद हो चले बालों के कारण
पर मूंछें उतनी रोबीली नहीं मेरी
और न ही आवाज़ उतनी कड़कदार

घर में पत्नी़ आधी ख़ुश
आधी उदास
अपनी गृहस्थी़ की सफलता में उसने
अख़बार तक पढ़ना छोड़ दिया है आजकल

मैं ख़ुद भी हथेली पर तम्बाकू-चूना घिसने के बजाए
निकोटिन की मेडिकेटेड च्यूइंगम चबाने लगा हूं

भीषण है यह शब्द - आजकल
भाषा में
बहुत स्थानिक इसका प्रवाह

मुझे लाता -ले जाता हुआ
इसका ठहराव
किसी बम के फटने या गोली चलने से ठीक पहले जैसा
****

6 comments:

  1. सचमुच आजकल,हमारे जमाने से ज्‍यादा भयावह है।

    ReplyDelete
  2. !!!!!!!!!!!!
    कुछ अजीबो गरीब मगर निःसंदेह रोचक लेखन...
    आज पहली बार देखा आपका ब्लॉग..
    अच्छा लगा.
    शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  3. is aajkal ko yahin thaam diya jaye bandhu.....nahin to aage chal ke yah khunkhaar daitya ban jayega......apne samay se ru b ru karati khub imaandaar aur pardarshi kavita...

    yadvendra

    ReplyDelete
  4. कविता के ही शब्दों में, "भीषण है यह..", और ''भाषा में बहुत स्थानिक'' बहुत वैश्विक ''इसका प्रभाव''. लेकिन इतना फ़िक्रमंद भी क्या होना? इतना नया भी तो है इस ''आजकल'' में - गौतम बाबू का तबला, तबले और गणित का बीजगणित, निकोटिन, लेग स्पिन, कंधे तक पहुँचता हुआ आपका आसन्न यौवन. फिर भी? कवि लोग भी न...

    ReplyDelete
  5. सर कहकर बुलाया जाने लगा है अब मुझे
    xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
    मैं खुद भी हथेली पर तम्बाकू चुना घिसने के बजाय

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails