Tuesday, December 21, 2010

महेश वर्मा की कविताएँ


हिसाब

ब्लेड से पेंसिल छीलते में
एक पूर्ण विराम भर कट सकती है उंगली
लेकिन अश्लील होता
बिल्कुल सफ़ेद काग़ज़ पर गिरना
अनुस्वार भर भी
रक्त की बूँद का।

नहीं आ पाई थी कोई भी ऐसी बात
कि उँगली से ही लिख दी जाती-
लाल अक्षरों में

उत्तापहीन हो चला था इतिहास,
सिर्फ़ हवाओं की साँय-साँय सुनाई देती थी
कविताओं के खोखल से

सिर्फ़ प्रेम ही लिख देने भर भी
ऊष्म नहीं बचे थे ह्रदय, तब
प्रेमपत्रों को कौन पढ़ता ?

बचती थी केवल प्रतीक्षा ज़ख्म सूखने की
कि पेंसिल छीलकर लिखा जा सके-
हिसाब।
***

एक जगह

उदासी एक जगह है जैसे कि यह शाम
जहां अक्सर मैं छूट जाता हूं।
मुश्किल है बाहर का कुछ देखना-सुनना।

उदासी की बात सुनकर
दोस्त बताते हैं नज़दीक के झरनों के पते
जहां बीने जा सकते हैं पारिवारिक किस्म के सुख।

पता नहीं यह अंधेरा है,
या नींद,
या सपना,
जिसपर,
गिरती रहती है झरने सी उदासी।

मेरी हर यांत्रिक चालाकी के विरूद्ध
मेरी अनिद्रा, मेरा प्रत्युत्तर है मुझको इस समय।
और एक जगह है यह अनिद्रा भी, जिसके भीतर सोकर,
नींद भूल गई हो बाहर का संसार।

पत्थर हो चुके इसको खोजने निकले राजकुमार।
***


भाषा

मैं अपनी धूल हटाता हूं
कि देखो वहां पड़े हुए हैं कुछ शब्द।
मेरे होने की संकेत लिपि से बेहतर,
विकसित भाषा के शब्द ये-
शायद इनसे लिखा जा सके निशब्द।

***

13 comments:

  1. सुबह-सुबह पढ़ीं और आनन्द आ गया। छोटी-छोटी घटनाओं की कितनी अद्भुत व्यंजना रचते हैं महे्श। एक कविता पढ़ते हुए मुझे मंगलेश जी की एक कविता संकलन की शीर्षक कविता याद आई। असुविधा पर शायद पहली बार महेश जी की कवितायें आईं थीं…और वे भी अपने कथ्य और शिल्प में ऐसी ही कसी हुई।

    हां शिरीष्…पहली बार छापने के बावज़ूद आपने परिचय नहीं लिखा अपने अंदाज में? :)

    ReplyDelete
  2. महेश जी को अनुनाद पर पाकर खुशी हुई, बहुत अच्छी कवितायेँ हैं. आभार शिरीष जी.

    ReplyDelete
  3. अच्छी कविताए है , साधुवाद .

    ReplyDelete
  4. महेश की कविताओं को पढ़ कर कविता का अनूठा आस्वाद मिला. इन कविताओं में सामाजिक सरोकारों का काव्यात्मक विवेचन पूरी गहनता और व्यापकता से महसुसा हुआ सा लगता है. महेश की कविताओं को लगाने और अनुनाद के पाठकों तक पहुँचाने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  5. हिसाब कविता बेहद पसन्द आई..

    ReplyDelete
  6. तीनों कवि‍ताऍं लक्ष्‍यभेदी हैं...'हि‍साब' ने बहुत उद्वेलि‍त कि‍या...बेहतर प्रस्‍तुति‍...आभार !

    ReplyDelete
  7. sunder kavitaayen...
    shukriya kise kahoon...
    Mahesh ji ko ya Ashok ji ko...
    ...chalo dono ko...

    ReplyDelete
  8. touching ones, congratulation. Leave them in Cirka for 6-8 months, then drain n add some fresh spices. Delayed 2nd draft will make these even better.
    Cheers!

    BK Manish

    ReplyDelete
  9. bahut der se aana hua.. sabhi kavitaaon se baar-baar guzarne ka man hua. hisab kavita bahut sundar hai aur antim kavita mein nishabd chamtkaar kar gaya hai ..
    anuthi kavitaen.

    ReplyDelete
  10. बढ़िया संकलन ।

    ReplyDelete
  11. mahesh, link dene ke liye bahut dhanyavad, kaafi dino baad dil ke bheetar se nikali kavitaye padhane ko mili, kabhi kritya ke liye bhi bhejiye

    ReplyDelete
  12. पड़ा जा पा रहा है आपकी भाषा का निशब्‍द.

    ReplyDelete
  13. kawita ki khokhal me goonjti mahesh ki kavitayen.....door door tak anjaan dukhon ko pakadti hai .....badhai!

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails