Thursday, December 2, 2010

तुमसे प्रेम करने के बाद

(1943 में जन्मी निकी जियोवानी अफ्रीकी मूल की अमरीकी कवयित्री हैं, इनकी कविताओं में नस्लीय गौरव और प्रेम की झलक है। निकी वर्जीनिया में अंग्रेज़ी की प्रोफेसर हैं और नागरिक अधिकारों के लिए समर्पित हैं)

1)
ब्रह्माण्ड के छोर पर
लटकी हूं मैं,
बेसुर गाती हुई,
चीखकर बोलती,
ख़ुद में सिमटी
ताकि गिरने पर न लगे चोट।
मुझे गिर जाना चाहिए
गहरे अंतरिक्ष में,
आकार से मुक्त और
इस सोच से भी कि
लौटूंगी धरती पर कभी।
दुखदायी नहीं है यह।
चक्कर काटती रहूंगी मैं
उस ब्लैक होल में,
खो दूंगी शरीर, अंग
तेज़ी से..
आज़ाद रूह भी अपनी।
अगली आकाशगंगा में
उतरूंगी मैं
अपना वजूद लिए,
लगी हुई ख़ुद के ही गले,
क्योंकि..
मैं तुम्हारे सपने देखती हूं।

2)
ख़ूबसूरत ऑमलेट लिखा मैंने,
खाई एक गरम कविता,
तुमसे प्रेम करने के बाद।
गाड़ी के बटन लगाए,
कोट चलाकर मैं
घर पहुंची बारिश में..
तुमसे प्रेम करने के बाद।
लाल बत्ती पर चलती रही,
रुक गई हरी होते ही,
झूलती रही बीच में कहीं..
यहां कभी, वहां भी,
तुमसे प्रेम करने के बाद।
समेट लिया बिस्तर मैंने,
बिछा दिए अपने बाल,
कुछ तो गड़बड़ है...
लेकिन मुझे नहीं परवाह।
उतारकर रख दिए दाँत,
गाउन से किए गरारे,
फिर खड़ी हुई मैं
और
लिटा लिया ख़ुद को,
सोने के लिए..
तुमसे प्रेम करने के बाद।

अनुवाद- माधवी शर्मा गुलेरी




3 comments:

  1. एक सि‍म्‍फनी...गहन...।
    प्रेम और अस्‍ति‍त्‍व की सघन-अमूर्त अभि‍व्‍यक्‍ति‍।

    ReplyDelete
  2. प्रेम की इतनी मर्मस्‍पर्शी कविता बहुत दिनों बाद पढ़ी, अनुवाद ने कविता की रूमानियत को बरकरार रखा है।

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails