Thursday, June 24, 2010

पाकिस्तानी कविता में स्त्री तेवर- दूसरी कड़ी

हम गुनहगार औरतें

- किश्वर नाहीद
ये हम गुनहगार औरतें
जो अहले-जुब्बा की तमकनत से
न रोआब खोयें
न जान बेचें
न सर झुकायें
न हाथ जोड़ें
ये हम गुनहगार औरतें हैं
के: जिनके जिस्मों की फसल बेचें जो लोग
वो सरफ़राज़ ठहरें
नियाबते-इम्तियाज़ ठहरें
ये हम गुनहगार औरतें हैं
के: सच का परचम उठा के निकलीं
तो झूठ से शाहराहें अटी मिली हैं
हर एक दहलीज़ पे
सज़ाओं की दास्तानें रखी मिली हैं
जो बोल सकती थीं, वो ज़बानें कटी मिली हैं
ये हम गुनहगार औरतें हैं
के: अब ताअकुब में रात भी आये
तो ये आंखें नहीं बुझेंगी
के अब जो दीवार गिर चुकी है
उसे उठाने की ज़िद न करना
ये हम गुनहगार औरतें हैं
जो अहले-जुब्बा की तमकनत से
न रोआब खोयें
न जान बेचें
न सर झुकायें, न हाथ जोड़ें.

(अहले जुब्बा- मजहब के ठेकेदार, तमकनत- प्रतिष्ठा, सरफ़राज़ - सम्मानित, नियाबते-इम्तेयाज- सही गलत में फर्क करने वाला, ताअकुब- तलाश में )

जारी...

4 comments:

  1. यह मेरी सर्वाधिक पसंदीदा कविताओं में एक है।

    ReplyDelete
  2. kas itani achchi kavita ka saral hindi anuvad hota to hamare jaise behad sadharan log bhi puri kavita mai dub pate
    alok

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन टीम की और रश्मि प्रभा जी की ओर से आप सब को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर बधाइयाँ और हार्दिक शुभकामनाएँ |


    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 08/03/2019 की बुलेटिन, " आरम्भ मुझसे,समापन मुझमें “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. बहुत प्रभावशाली लेखन

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails