Wednesday, May 5, 2010

पुराने दोस्त

वेन गोग़ की पेंटिंग गूगल से साभार

पुराने दोस्त याद आते हैं पुराने दोस्त स्मृतियों में रहते हैं

मेरा जीवन तीन चौथाई स्मृतियों से बना है और एक चौथाई उम्मीदों से
तीन चौथाई में भी दोस्त एक चौथाई में रहते हों शायद दूसरी कई सारी चीज़ों के साथ
हो सकता है दूसरी चीज़ें कबाड़ लगती हों उन्हें
और कबाड़ छांटते हों मेरी स्मृतियों का
पुराने दोस्त

मुझे भिन्न पसन्द नहीं थी गणित में और इस तरह एक भिन्न में रहते हुए अभिन्न होते जाते हैं पुराने दोस्त

पुरानी नदियां पुराने तारे पुरानी रातें पुराने गांव पुरानी गलियां पुरानी हवाएं पुराने स्वप्न पुरानी चीज़ें
पुराने लोग पुराने शब्द पुरानी कविताएं पुराने चित्र

खरी पुरानी ईंटों में बजते हुए पुराने घर

पुराने दोस्तों के साथ
पुराना
और पुराना हो जाता है

नए दिनों की नई आंखों में भी आते हैं
पुराने ही आंसू

पुराने आंसुओं में डबडबाते हैं पुराने दोस्त
वे पुराने तैराक भी हैं

पुराने दिन और पुरानी लड़ाइयां पुरानी नहीं रहतीं
पुराने नहीं रहते पुराने दोस्त !
***
(योगेश पान्थरी, सुरेश पान्थरी, धनेश पान्थरी, अनिल रावत, प्रताप मनराल, रामकृष्ण मुण्डेपी, टीकाराम पोखरियाल, देवेन्द्र कुण्डलिया, सुरेन्द्र बहुखण्डी, गुड्डी दी, हेमू, और किट्टू के लिए)


10 comments:

  1. वाह ! कमाल की पंक्तियाँ लिखी है! पुराने दोस्त याद आने लगे !

    ReplyDelete
  2. आपके ब्लॉग को follow कैसे करें!

    ReplyDelete
  3. मेरा जीवन तीन चौथाई स्मृतियों से बना है.... वाह शिरीष वाह । हमे भी पुराने कई दोस्त याद आ गये ।

    ReplyDelete
  4. अंशु की एक कविता में उसने लिखा है कि 'बिना दोस्तों के कोई नास्तिक तो हो ही नही सकता'

    सच में उनसे क़ीमती कोई नहीं…आभार इस कविता को पढ़वाने के लिये…इसे प्लीज़ जनपक्ष पर भी लगा दीजिये

    ReplyDelete
  5. नया नौ दिन, पुराना सौ दिन ...
    जो रोया पुराने को रोया,
    ''old is gold",
    यादें दौलत हैं ,
    अमीर या ग़रीब
    क़रीब -क़रीब जिनकी बदौलत हैं
    सच में, अच्छा लगा लिखा आपका ......

    ReplyDelete
  6. अद्भुत शिरीष

    ReplyDelete
  7. दोस्तों के बिना तो मै जीवन की कल्पना ही नही कर सकती .....स्मृतियों की सघनता तभी होगी जब आपके पास सच्चे दोस्त होंगे ,और आपके पास सच्चे दोस्त तभी होंगे जब आप बिना किसी स्वार्थ के उनसे जुड़े होंगे ....और ईमानदार होंगे । सुंदर कविता ।

    ReplyDelete
  8. ओह !!

    क्या पोस्ट है ....

    ReplyDelete
  9. पुराने दोस्‍तों के साथ हम नये दोस्‍तों के लिए भी एक कोना सुरक्षित रखना.... कल हम भी पुराने दोस्‍त होंगे.

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails