Tuesday, April 27, 2010

गाज़ा में कविता है लापता : बफ़ व्हिटमन-ब्रॅडली



गाज़ा में कविता है लापता


गाज़ा में कविता है लापता
हालाँकि उसके देखे जाने की छुटपुट और अपुष्ट
सूचनाएं हैं
एक कहता है कि उसे गटर से बहते हुए
उफनती हुई खून की नदी में मिलते देखा
दूजा खबर देता है कि बम फटने से मलबे और मिट्टी में बदल गई
इमारत के नीचे उसकी चीखें सुनी हैं
गाज़ा में कविता है लापता
हो सकता है वह हो खुली हवा में बने मुर्दाघर में
उन बच्चों की लाशों के बीच
जो आसमान से आई मौत से मर गए बस का इंतज़ार करते हुए
एक डॉक्टर का मानना है कि शायद उसने
कविता के तार-तार हो चुके पैरों को काट दिया
और उन्हें फेंक दिया दूसरे अंगों के ढेर पर

धमाकों से पिघल गईं उसकी आँखें हिल गए कान के पर्दे
हिलोरे लेती सड़कों पर
उसका पीछा कर रहे हैं लोग लौह मुस्कानों वाले
जिनकी साँसों से आती है गोला-बारूद की गंध
जिनकी माइक्रो-प्रोसेसर सी आँखें देखती हैं हर जगह
सिवाय दिल के

गाज़ा में कविता है लापता
लौह मुस्कानों के बड़े मंसूबे हैं
वे दीवार बना देंगे कविता के इर्द-गिर्द
क़ैद कर देंगे उसे तडपाएंगे उसे चुरा लेंगे उसकी ज़मीन
काट डालेंगे जैतून के पेड़ और
धीरे धीरे मारेंगे भूखा कविता और उसके बच्चों को तब तक
जब तक उनमें बचे न कुछ भी

पर कविता बचती है लौह मुस्कानों से
लंगड़ों से लूलों से बहरों से अंधों से
और पहुँचती है उसी चौपाटी पर
जहाँ पिकनिक मनाता एक परिवार मारा गया गोलीबारी में
कविता लहरों को नहीं सुन सकती
और
न देख सकती है आसमान को जर्द पड़ते हुए
पर
वह महसूस करती है गर्म रेत को
और सूंघ लेती है शाम के खुशबूदार हाथों को

और कविता याद कर सकती है
मार दिए गए बच्चों को याद कर फिर जिंदा कर सकती है कविता
याद कर सकती है गाँवों को जो गायब कर दिए गए इस धरती से कहीं अलग
घर लौटते शरणार्थियों के स्वागत में बाहें पसारे
कविता याद कर सकती है जैतून के बागों से होकर बहती शर्मीली हवाओं को
और कविता जो याद करती है वह बन जाता है एक गीत

और वह गीत उठ खड़ा होता है
और चौपाटी से चलने लगता है गाँवों और क़स्बों के उजाड़ की ओर
जहाँ से उठ रहा है धुआँ
गीत को लौह मुस्कानें नहीं सुन पातीं क्योंकि उनके दिमागों में है धमाके
और कानों में भरा है खून
लोग मगर सुन सकते हैं हौले से गाना शुरू करते हैं
नहीं मिटेंगे हम और न ही मरेंगे.

*********

(बफ़ व्हिटमन-ब्रॅडली के दो कविता संग्रह प्रकाशित हैं; उनकी कविताएँ कई अमरीकी साहित्यिक पत्रिकाओं में छप चुकी हैं. लेखन के अलावा वे ऑडियो और वीडियो वृत्तचित्रों के निर्माण से भी जुड़े हैं. इराक़ और अफ़गानिस्तान में लड़ने से इनकार करने वाले अमेरिकी सैनिकों के उनके द्वारा लिए गए साक्षात्कार यहाँ सुने जा सकते हैं. वे उत्तरी कैलिफोर्निया में रहते हैं.)

*डोरा मैक्फ़ी की बनाई चारकोल-पैस्टल तस्वीर ' हॉस्टेज इन गाज़ा' ऑस्ट्रेलियंस फॉर पैलेस्टाइन की वेबसाइट से साभार

1 comment:

  1. असर दार है भाई, शुक्रिया.

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails