Monday, March 1, 2010

होली पर चोरी ...

मुझे याद है अपने बचपन और बाद में अपने छोकरेपन किंवा छिछोरपन में हम गाँव(नौगाँवखाल) भर से लकड़ी का सामान चोरी कर होली में जला दिए करते थे और गाँव भर की गाली खाते थे...ये आदत अब भी गयी नहीं और गाँव भर की तो नहीं पर दो साथियों की गाली शायद खानी पड़े..... पर यारो बुरा ना मानो होली है ......और मानो तो मानो ... होली है..........

एम० एफ़० हुसैन की पेंटिंग की चोरी धीरेश सैनी के ब्लॉग से



निराला की इस होली की चोरी प्रेमचंद गांधी के ब्लॉग से


नयनों के डोरे लाल गुलाल-भरी खेली होली !
प्रिय-कर-कठिन-उरोज-परस कस कसक मसक गई चोली,
एक वसन रह गई मंद हँस अधर-दशन अनबोली
कली-सी काँटे की तोली !
मधु-ऋतु-रात मधुर अधरों की पी मधु सुधबुध खो ली,
खुले अलक मुंद गए पलक-दल श्रम-सुख की हद हो ली--
बनी रति की छवि भोली!
***

9 comments:

  1. आन लाइन रहने का फ़ायदा...

    अहा क्या चोरी और है !
    और क्या होली है !!!!

    ReplyDelete
  2. आपको तथा आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ.nice

    ReplyDelete
  3. होली पर आप तो चोरी कर रहें लेकिन बंधु अपने ब्‍लाग से ताला खोलकर हमें भी तो इसे करने का एक दुलर्भ अवसर दें।
    वैसे चोरी बेहतरीन है और इसके लिए ढेर सारी शुभकामानाएं

    ReplyDelete
  4. होली पर हार्दिक शुभकामनाएं. पढ़ते रहिए www.sansadji.com सांसदजी डॉट कॉम

    ReplyDelete
  5. होली का यह अंदाज़ भी खूब भाया...

    ReplyDelete
  6. ये रंग भरा त्यौहार, चलो हम होली खेलें
    प्रीत की बहे बयार, चलो हम होली खेलें.
    पाले जितने द्वेष, चलो उनको बिसरा दें,
    खुशी की हो बौछार,चलो हम होली खेलें.


    आप एवं आपके परिवार को होली मुबारक.

    -समीर लाल ’समीर’

    ReplyDelete
  7. ye chori
    aur ye seena jori
    dono achchhi lagi.
    holi ki shubh kaamnayen.

    ReplyDelete
  8. आपसे पहले पेंण्टिंग चुरा के बज़ पर लगा दी थी :-)बड़े आये चोर! कविता लिखिये वही कर सकते हैं सलीके से………………बुरा न मानो होली है!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  9. ajee bhai jaan, chor main thahra. maine hi do saal pahle kisi site se uthakar apne blog par nazeer keekavita ke sath chipka dee thee. is baar mujhe ye jyada prasangik lagi. phir chori kaisi, maine tokhud mail bhi kee thi ap logon ko. aur anunad par main khud chah raha tha hussain par kuchh jay, chuppi theek nahi.

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails