Sunday, February 7, 2010

I, Too, Sing America

फरवरी माह अमेरिका,कनाडा और ब्रिटेन में ब्लैक हिस्ट्री मन्थ के तौर पर मनाया जाता है. 1926 में नीग्रो हिस्ट्री वीक के रूप में शुरू हुए इस दस्तूर की प्रासंगिकता और उपादेयता पर हाल के वर्षों में सवाल भी उठाये गए हैं.अनुनाद इस मौके पर याद कर रहा है हार्लम रेनेसांस के बड़े कवि लैंग्स्टन ह्यूज को, उनकी इस कविता के मार्फ़त. इस रचना के बारे में कुछ कहना उतना ही गैरज़रूरी लगता है जितना इसका हिन्दी अनुवाद करना.



I, too, sing America

I, too, sing America.
I am the darker brother.
They send me to eat in the kitchen
When company comes,
But I laugh,
And eat well,
And grow strong.

Tomorrow,
I'll be at the table
When company comes.
Nobody'll dare
Say to me,
"Eat in the kitchen,"
Then.

Besides,
They'll see how beautiful I am
And be ashamed--

I, too, am
America.

**********

10 comments:

  1. शानदार भारत भाई.

    ReplyDelete
  2. आज की बेहतरीन कविता हाशिए के आदमी की कविता है.

    ReplyDelete
  3. मनुष्य की अदम्य जीजीविषा की कविता
    काश की साथ में हिन्दी अनुवाद भी लगाया जाता।

    ReplyDelete
  4. शानदार कविता. मैने पहले भी कई कई बार पढ़ी. अनुनाद पर लगी तो अच्छा लगा. शुक्रिया भारत भाई.....

    ReplyDelete
  5. हिंदी अनुवाद भी लगाना था .
    अनिल जनविजय जी ने आज तक कोई पोस्ट नही लगाई.

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्तुती। आपका आभार।

    ReplyDelete
  7. Beautiful Poem... reminds me of "Still I rise" by Maya Angelou.
    If you haven't posted it earlier in your blog, it's worth a mention.
    =====
    Also saw some other posts and felt that you also hold the currently fashionable opinion that summarily rejects any rhyming poetry as non-consequential one :)
    Hope some day you change your mind :)
    ===
    Bless you for the good work you are doing. The poem at the side bar (by Dabral Ji) has the impact it intends to have :)

    ReplyDelete
  8. आसन शब्दों में गहरी बात...आसन शब्दों में गहरी बात...

    ReplyDelete
  9. सीधे सरल तरीके से प्रहार

    ReplyDelete
  10. हिंदी में अनुवाद नहीं देने के बजाए हिंदी और अंग्रेज़ी, दोनों संस्करण दे देते।

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails