Thursday, July 30, 2009

थियेटर करना

प्रतिलिपि से साभार

थियेटर करना

एक छोटे क़स्बे में थियेटर करना
सबसे पहले उस क़स्बे के सबसे अमीर और अय्याश आदमी के आगे खड़े होकर चंदा मांगना है
और वो भी एक हक़ तरह

उसे हर साल होने वाली रामलीला, धर्मगुरुओं-साध्वियों आदि की प्रवचन संध्याओं,
बड़े अंग्रेज़ी स्कूलों के सालाना जलसों में अनुस्यूत डी.जे. आदि
और अपने इस होनेवाले नाटक के बीच
एक नितान्त अनुपस्थित साम्य को समझाना है थियेटर करना

सरकारी दफ़्तरों के चक्कर लगाना है मदद के वास्ते
घूसखोर अफ़सरों को पहचानना
और पुराने परिचितों को टटोलना है थियेटर करना

एक सही और समझदार आदमी अचानक मिल सकता है
अचानक बिक सकती हैं कुछ टिकटें आपको तैयार रहना है
और उसी बीच लगा आना है एक चक्कर
लाइट और साउंड सिस्टम वाले
और उस घी वाले थलथल लाला के यहाँ भी, जिसने मदद का वायदा किया
और सुनना है उससे
कि ये इमदाद तो हम नुकसान उठाकर आपको दे रहे हैं भाई साहब
आपने भी छात्र राजनीति में रहते
कभी तंग नहीं किया था हमें
ये तो बस उसी का बदला है !

इस तरह
पुरानी भलमनसाहत और अहसानात को खो देना है थियेटर करना

जब रोशनी और आवाज़ और अभिनय के समन्दर में तैर रहे होते हैं किरदार
और दर्शक भी अपना चप्पू चलाते और तालियाँ बजाते हैं
ठीक उसी समय
सभागार के सबसे पीछे के अंधेरे हाहाकार में
अनायास ही बढ़ गए खर्चे का हिसाब लगाना है
थियेटर करना

नाटक के बाद रंगस्थल से मंच की साज-सज्जा का सामान खुलवाना
कुर्सियाँ हटवाना और झाड़ू लगवाना है
थियेटर करना
जिसमें तयशुदा पैसों में किंचित कमी के लिए रंगमंडल के थके-खीझे किंतु समर्पित निर्देशक से
मुआफ़ी माँगना भी शामिल है

देर रात की सूनी सड़क पर बीड़ी के कश लगाते बंद हो चुके अपने घरों के दरवाज़ों को खटखटाने जाना है
थियेटर करना

बूढ़ी होती माँ के अफ़सोस के साथ अवकाशप्राप्त पिता के क्रोध को पचाना
और अगली सुबह तड़के कच्ची नींद से उठकर शहर से जाते रंगमंडल को दुबारा बुलाने के उनींदे विश्वास में
विदाई का हाथ हिलाना है थियेटर करना

कौन कहता है
कौन?
कि महज एक प्रबल भावावेग में
अनुभूत कुशलता के साथ मंच पर जाना भर है
थियेटर करना !
***
इस कविता को "लमही" के नए अंक में भी पढ़ा जा सकता है..........
***

16 comments:

  1. maine kbi theater nhi kiya lekin aapki is kavita ne samuche natya-karm ko gahri armikta se udghatit kiya h

    ReplyDelete
  2. ना पूछीये कितना मुश्किल है छोटे शहर /कस्बे में लोगों को समझाना / रूची जगाना .....बहुत बढिया कविता !

    ReplyDelete
  3. संगत होती जा रही विसंगतियों की कसैली उल्टियों की गंध को सार्वजनिक करती हुई कविता. जीवन के क्षय के बावजूद भरोसे के पठारी आँगन पर लड़खडाते कदमों की आहट भी है यहाँ. आवश्यक है समाज की नब्ज को टटोलते रहना.

    ReplyDelete
  4. I can identify myself with this poem as i also did such theater in such a town as described in your poem ,but i was always awre of the limitations of small town theater and i never did it for changing society . I did it for myself and i have no regrets at all.

    ReplyDelete
  5. बढिया कविता शिरीष जी। अचानक युगमंच की मंडलियों के साथ मालरोड की दुकानों में चंदा मांगने जाने की कवायद याद आ गई।

    ReplyDelete
  6. मित्रों,पहली तीन लाइनों का बैलेंस देखें - दूसरी लाइन बहुत हद तक अप्रत्याशित है पहली के बाद,और तीसरी दूसरी के बाद.

    अनुनाद पर मेरी पिछली पोस्ट में "सांस्कृतिक अत्याचार" करने वाली अंकल एंड कंपनी का यह बड़ा अहसान रहा कि लिखने प्रकाशित होने से बहुत पहले ही ये सब 'जलवे'(उनका प्रिय शब्द -जिसे वे नसीर की मेनस्ट्रीम में जाने की मारू कोशिश 'जलवा' के बाद दुधारा बरतते थे)दिखा दिए और बाबू साहब को समझा दिया कि हिंदुस्तान में कला वला करने का मतलब किस बला से होता है।

    ReplyDelete
  7. प्रिय शिरीष जी,

    यह बहुत अच्छी कविता है . ऐसी कविता हमारे वक़्त के सामाजिक-सांस्कृतिक संघर्षों में कवि की गहरी , सक्रिय और संवेदनशील हिस्सेदारी के बगैर लिखी नहीं जा सकती .

    आप मौजूदा दौर में हिन्दी के उन बहुत थोड़े-से कवियों में हैं, जो यह मानते हैं कि कविता को अपने जीवन में जीना ज़रूरी है. तभी उसमें वह कशिश, सौन्दर्य और मार्मिकता पैदा होती है , जो आपकी कविता में है . जिन लोगों ने कविता को कोरे बौद्धिक व्यसन में बदल दिया है और इस तरह उसे या तो वाग्जाल का ज़रिया बना रहे हैं या कोरी बौद्धिक क़वायद के 'सामान ' में रिड्यूस कर रहे हैं , उन्हें आखिरकार नाकामी ही हाथ लगेगी . मगर आप कामयाब होंगे ! हमारी बधाई मंज़ूर करें भाई !
    -------पंकज चतुर्वेदी
    कानपुर

    ReplyDelete
  8. jeevan roopi theatre ko puri maarmikataa mein ukerati utkrsht kavitaa. shireesh bhai, aapaki yah kavita jeevan ki anek parton ko udghatit kartee hai

    priyam ankit

    ReplyDelete
  9. ये कविता -
    मात्र 'थियेटर करना ' को ही नहीं बल्कि उस पूरी बेचैनी को शब्द दे रही है जो किसी भी साहित्यकार, कवी , लेखक को अपनी स्वीकृत्ति को लेकर झेलनी पड़ती है . निराला की "सरोजस्मृति " याद आ गयी -आपको बधाई

    ReplyDelete
  10. मेल चेक करने आज बहुत दिन बाद नेट पर आई और कितने ठीक समय पर आई. थियेटर करना वाकई एक समूचे जीवन को जीना है और अपने सामान्य जीवन में भी हम कितनी कितनी बार सिर्फ़ अभिनय ही तो करते हैं. आपने थियेटर के आंतरिक पर्दे को उठाया है जिसमें छुपा अंधेरा भी जैसे चमक उठता है. मेरे पास शब्द नहीं हैं तारीफ़ के लिए......

    ReplyDelete
  11. कविता तो बेशक बहुत अच्छी है पर एक सवाल है कि आपके क़स्बे में थियेटर सिर्फ़ लड़के ही करते हैं क्या शिरीष जी?

    ReplyDelete
  12. तल्ख़ ज़ुबान जी !

    आपने सवाल सही उठाया.
    श्री विष्णु खरे जी ने भी 2 दिन पहले ही फ़ोन पर प्रशंसा के साथ साथ यह भी सवाल उठाया था और मेरे थियेटर ग्रुप की लड़कियों ने भी मुझे इस बारे कहा है.

    जल्द ही पूरी भावात्मक और वैचारिक तैयारी के साथ एक पैरा कविता में जोड़ूँगा.

    आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  13. kavita ne us samay ko aankho ke samne la khada kiya jab main theater karti thi,allahabad me.dekhne,adne ka shauk ab bhi hai shayad karne ka bhi magar...........apki kavita sach kahti hai.

    ReplyDelete
  14. Ise padhte huye Zahur Da kii yaad aayii.., unhe meri taraf se yaad karna...

    ReplyDelete
  15. addbhut aur jiwant kavita kai liyae badhai

    ReplyDelete
  16. अनुभवों से बनी और बुनी गई ऐसी कविताएँ अलग ही प्रभाव छोड़ती हैं -सक्रियता की कविता है
    एक्टिविस्ट पोएट्री

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails