Friday, May 8, 2009

कवि चंद्रकांत देवताले की दो चित्रकृतियाँ

आज का दिन बहुत घटनाप्रधान है ! अभी मुझे आसमान से टपकी हुयी किसी अनमोल सौगात जैसी कवि चंद्रकांत देवताले की दो चित्रकृतियाँ मिली हैं .... अधिक कुछ न कहते हुए आपके लिए भी तुरत हाज़िर है ये सौगात ! देवताले जी ने पहली बार चित्र बनाए हों, ऐसा नहीं है ! उनके बनाए चौंसठ चित्रों की प्रदर्शनी भी एक बार बहुत पहले लग चुकी है! ये चित्र उनका अभी का काम हैं। उन्हें बेहद प्रतिकूल जीवन स्थितियों में भी इस तरह रचनारत देखना सुखद भी है और प्रेरक भी !
पहला चित्र


दूसरा चित्र


2 comments:

  1. पहली पेंटिंग दिलचस्प है। ये पेंटिंग्स मैं कुछ दिनों पहले युवा कवि बहादुर पटेल के ब्लॉग पर देख चुका हूं लेकिन यहां ये ज्यादा बेहतर ढंग से लगाई गई हैं।

    ReplyDelete
  2. mujhe unke chitrkaar ke bare mein jankari nahi thee. ravindra bhai to is field ke admi hain aur hara unka priya bhi hai.

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails