Saturday, May 16, 2009

अनुनाद के मुद्रित संस्करण से .......असद ज़ैदी


इससे पहले अनुनाद के प्रिंट एडिशन से हम नरेश चंद्राकर, व्योमेश शुक्ल और वीरेन डंगवाल की कवितायें यहाँ लगा चुके हैं। सोचा कि अनुनाद में छपी सभी कवितायें आपको पढ़वाई जायें ! इस बार प्रस्तुत हैं असद ज़ैदी की दो कवितायें। आगे आप इसी क्रम में चंद्रकांत देवताले, हरिश्चंद्र पांडे, अशोक पांडे, विशाल श्रीवास्तव, शैलेय, सादी यूसुफ़(अनुवाद -अशोक पांडे), राजेन्द्र कैडा की कवितायें और अलिंद उपाध्याय का एक वक्तव्य पढेंगे।


असद ज़ैदी की कविताएँ

अनुनाद के पन्ने पर टीप : असद ज़ैदी की कविताएँ एक गहरी बेचैनी और समय की देह पर दर्ज़ सांघातिक गतिविधियों से भरी कविताएँ हैं। इनसे महज पाठकीय सुख नहीं मिलता, बल्कि ये परेशान करती हैं और पाठक को उसके भीतर साबुत नहीं रहने देतीं। इस विशिष्ट अर्थ में असद ज़ैदी हमारे समय के सबसे महत्वपूर्ण कवियों में अग्रणी माने जायेंगे। अपने प्रवेशांक में ही उनकी इन दो कविताओं को छाप पाना हमारी सम्पादकीय उपलब्धि है।

करने वाले काम

वापस खींचो सारे छुरे
जो तुमने घोंपे थे पसलियों के बीच
हँसली के ऊपर
गुर्दों के आसपास

लौटाओ लोगों को मुर्दाघरों से
इमरजेंसी वार्ड में जहाँ नाइट ड्यूटी पर लगे
दो उनींदे डॉक्टर
तुम्हारे किसी शिकार को बचाने की कोशिश कर रहे हैं
वे ऐसे तो उसे बचा नहीं पाएंगे
खींचकर वापस लाओ वहाँ से भी उन सब मरते हुए लोगों को
बिठाओ उन्हें उनकी बैठकों और काम की जगहों में
सुनो उनसे उनके पसंदीदा मज़ाक़
जब उनमें से किसी की औरत चाय लेकर आए
तो हस्बे-मामूल बोलो नमस्ते भाभी !
और कोई बच्चा-बच्ची झाँकते दिखाई दें तो
बुलाओ और कहो देखो ये रहे तुम्हारे पापा
वापस लो अपनी चश्मदीद गवाहियाँ
जिनका तुमने रिहर्सल किया था
बताओ कि इबारत और दीद भयानक धोखा थीं
और याददाश्त एक घुलनशील ज़हर
फिर से लिखो अपना
सही-सही नाम और काम

उन समाचारों को फिर से लिखो
जो अफ़वाहों और भ्रामक बातों से भरे थे
कि कुछ भी अनायास और अचानक नहीं था
दुर्घटना दरअसल योजना थी
मत पोंछो हर जगह से अपनी उंगलियों के निशान
छुड़ाओ अपने बालों से वह बेहूदा खिजाब
फिर से बनाओ वही हथेलियाँ जो पसीजती थीं एक मासूम पशुता से
और मनुष्यता के ताप से ...
***

जागना रोना
(हैं ख़्वाब में हनोज़ जो जागे हैं ख़्वाब में - ग़ालिब)

तमाम फि़क्रमंदी और मेहनतकशी के पर्दे में रखा रहता है
दुख का भोंपू ख़ुद से रह-रहकर बजता हुआ
आदमी एहतियात से उठता है
और बजाने लगता है रेडियो
जहाँ से दबंग आवाज़ में देवकीनंदन पांडे सुनाने लगते हैं
आज की ख़ास - ख़ास खबरें

ये सब पीछे से उठती आवाज़ें हैं जिनका
कोई अब ज़िक्र नहीं है, लोग ऐसे हो गए हैं
कि अपने पिछले दुख भी गँवा बैठे
लोग संजय का ज़माना भूल गए, उन दुखों की पहचान भी भूल गए
पुराने अब झकझोरकर नयों से नहीं कहते
अरे नौजवानो, संजय....संजय !
जब कुछ वहशत होती है तो आप जा खड़े होते हैं
पिछवाड़े में खुलती खिड़कियों के पास और देखते हैं
काली, सफ़ेद और सलेटी दुनिया
उसके अँधेरे उसके उजाले और रहस्यमय परछाइयाँ - वहीं कुछ गोशों से
बनकर निकलता दिखाई देता है भविष्य
तैयार होकर फिंकता हुआ ताज़ा सामान
भावी दुनिया के लोथड़े जो सरकते हैं
एक अनिश्चयपूर्ण रंगीन भाप में
एक फ़ासिस्ट मोटरबाज़ की मूर्ति के पास
हर रोज़ रखी दिखती है एक ताज़ा माला।
***

4 comments:

  1. असद ज़ैदी साहब का पुराना मुरीद हूँ. सच्चे अर्थों में कविता उनके पास है. एक साफ़ राजनैतिक कविता... जो कहीं भी वक्तव्य में अपघटित नहीं होती. और क्या शानदार भाषा ! हिंदू उर्दू दोनों के बीच से बहकर निकलती नदी की तरह. उनकी कविता को सलाम.

    ReplyDelete
  2. ye kavi mar jayega, Sheerish bhai. Jab log pichhle dukh bhula baithe hain aur un dukhon kee pachchaan bhi, tab yah kavi akela itna ranj, itna gam, itna stress liye ghoomta hai apne dil-dimag par.
    Kuchh nahi hoga...Hindi ka alochak kahega- ye nirasha failata hai
    Krantikari sangtahan kahega- ummeed nahi dekh paata

    SHIREESH BHAI, Asad Zaidi khase beemar bhi rahne lage hain. Unhen ab mast formule wali kavitayen likhni chahiyen?

    ReplyDelete
  3. करने वाले काम अद्भुत कविता है- दिल को झंझोड़ देने वाली! कोई कवि सांप्रदायिकता के ख़िलाफ एक उतना ही सशक्त प्रतिपक्षी संसार रच सकता है, यह देखना और पढ़ना एक अनुभव है. शुक्रिया शिरीष जी ऐसी कवितायें लाने के लिए. अब मैं समझ पाया हूँ कि पिछ्ले दिनों असद ज़ैदी का इतना विरोध क्यों था! हिन्दी की हैसियत के हिसाब से मैने ये सिद्धांत बनाया है कि जिस कवि के पीछे मठाधीश पड़ जायें, वो बड़ा कवि है !

    ReplyDelete
  4. karne wale aur jagna rona dono hi. Ye JAGNA RONA karne wala hi likh pata hai

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails