Saturday, March 8, 2008

शिरीष कुमार मौर्य

उसका सपना

सारा दिन काम में खटने के बाद
इस घिरती रात में
प्रेम से बहुत पहले ही कहीं
नींद खड़ी हैं
उसकी आंखों में

कुछ अर्द्धपरिचित सपने हैं
वहाँ
अपने होने की हर सम्भावना को पुख्ता करते हुए
उसके सो जाने के इन्तज़ार में

और उन सपनों की भीड़ में हो न हो
वह ज़रूर मैं ही हूँ -
एक भारी और सांवला बादल
छलाछल जल से भरा
बरस न पाने की मजबूरी में भटकता हुआ
धरती के ऊपर
यूं ही निठल्ला-सा

सपने में इतना कुछ देखा - ईजा-बाबू
भाई-बहन
बरसों की बिछुड़ी सखियाँ
कई सारे नगर-क़स्बे-बस्तियां

दिल्ली
लखनऊ
इलाहाबाद
रामनगर
पिपरिया
नैनीताल

अब सुबह जागते ही पूछेगी
यह बात -
कहाँ थे तुम ?

खड़ी हुई मल्लीताल रिक्शा स्टैंड पर अकेली घबराई-सी
खोजती तुम्हीं को तो
जाग पड़ी थी मैं अकबकाकर
तीन बजे रात !

ये बिल्कुल नई कविता है .........

5 comments:

  1. वाह - अनुनाद तो है ही है - भारी गूँज भी है - शहरों के नाम भर अलग हैं - वाचाल पाठक [:-)]

    ReplyDelete
  2. सबसे पहले आपकी टिप्पणी ही मुझे मिलती है मनीष जी।
    बहुत-बहुत धन्यावद !

    ReplyDelete
  3. क्या भैया लगता है नैनीताल के मौसम का असर हो रहा है

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद
    प्यारे हरे
    और
    विशाल !

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails