Wednesday, March 5, 2008

शिरीष कुमार मौर्य

सविनय निवेदन

सविनय निवेदन
उनसे
अलग-अलग रहने की जिनकी आदत है
और ज़माने भर से जिन्हें शिकायत है
कृपया
वे ख़ुद को जीवन से जोडें !

सविनय निवेदन
उनसे भी
जो रोज़ थोड़ा-थोड़ा ढहते हैं
और हमेशा चुप रहते हैं
वे कृपया कुछ बोलें !

और सविनय निवेदन
उनसे
जो खरी खरी कहने में शरमाते हैं
जिनके असली चेहरे शब्दों के पीछे
छुप जाते हैं

वे कृपया कविता को छोडें !

ये कविता २००४ में छपे मेरे कविता संग्रह से ........

2 comments:

  1. बहुत खूब - शिरीष जी - खरा खरा - लेकिन गुरुवर ये बताएं कि अगर असली चेहरे शब्दों के पीछे छुप जाते हैं तो लिखने वाली कलम लिखना क्यों छोड़े ? देखने वाली नज़र क्यों न देखना छोड़े ? [ कविता पढने से भी तो कविता बनती है कि नहीं ?] - rgds - manish

    ReplyDelete
  2. kya bat hainge...dil ki kahi aapne...maine pahle bhi padhi thi g...lge rhiye g...

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails