Thursday, February 21, 2008

शिरीष कुमार मौर्य

समकालीन कविता
ज्ञान जी के लिए सादर


सब ठीक है?
दु:स्वप्नों से घिरा हुआ एक आदमी
घबराकर पूछता है
अपने आप से
अभी तक तो ठीक है !

-कहता हुआ
फिर सो जाता है
अपनी वही उचाट नींद

वहाँ
उसका एक दोस्त है
खून की उल्टियाँ करता हुआ
दो बड़े भाई
सफलता के शिखर पर
खुद से ही हारते हुए

एक बुजुर्ग रिश्तेदार हैं
वहाँ
तमाम दुश्चिंताओं से मुक्त
प्रेम से फारिग
अपने ही बनाए आश्वस्ति के दलदल में
गहरे ध¡से हुए


एक स्त्री है
भीतर ही भीतर विलाप करती
सहेजती हुई
नष्ट होती अपनी दुनिया


नौ साल की एक बच्ची
कुत्ते पालती
और उनके साथ गिलहरियों के पीछे दौड़ती


आती हुई भोर के धुंधले उजास में
खड़े सबसे आखिर में
एक स्नेहिल मगर कड़क सम्पादक भी हैं
वहाँ
कहते हुए - मुझे तुमसे कोईउम्मीद नहीं
अब तुम नहीं लिख पाओगे
समकालीन कविता !

2 comments:

  1. यही तो है (?) - आज कबाड़खाना देखा तो लगा आपके शहर में खिड़की दरवाज़े भी शायद खुल गए होंगे (महीने भर से सूचना देख के पक गए [:-)]) - आप बोलिए - सुनने वाले यहाँ भी सुनेंगे - [ पुस्तक मेले से आपकी और पांडे जी की अनूदित धरती जानती है उठाई है - ] साभार/ सस्नेह - मनीष

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मनीष जी! अब मेरे खिड़की दरवाजे खुले ही मिलेंगे!

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails