Monday, October 15, 2007

शिरीष कुमार मौर्य


जीवन-राग
2003-04
अनोखी सहजता वाले उस हृदय के लिए जिसने ` संगतकार ´ लिखी
यह कविताओं की एक विनम्र श्रंखला है। इसमें मैं तेरह दिनों तक रोज एक राग-एक कविता आपके सम्मुख प्रस्तुत करूंगा। कल मैंने मालकौंस पोस्ट किया था।






आज
का राग - शुद्ध कल्याण

भीमसेन जोशी का गायन सुनकर

ये घर लौटने का समय है
और हर कोई
लौट रहा है
कहीं न कहीं से

धीरे-धीरे लौट रही है रात
दिनभर की थकान का हिसाब मांगती

आकाश में लौट रही है
एक अजीब-सी टिमटिमाहट
तारों की

परिन्दे
पेड़ों पर लौट रहे हैं
दिनभर धूप सेंकने के बाद
पानी में लौट रही हैं
मछुवारों की नावें

दिनपाली के मजदूर लौट रहे हैं
लौट रहा है
बेसब्री से उनकी बाट जोहते परिवारों का
उत्साह

उधर बनिये के चेहरे की चमक भी
लौट रही है
दुकान के बल्ब की थोड़ी-सी चपल रोशनी में

बच्चों में लौट रही है भूख
हालाकि हर परिवार में उसका स्वागत नहीं है
और नींद के लौटने में अभी थोड़ी देर है

दिल में कोहराम मचाती
लौट रही हैं
दिनभर की आवाजें

कहीं लोग लौट रहे हैं तो कहीं उनकी यादें
यह बताती हुई
कि इतना आसान नहीं होता लौट पाना
हर बार

लेकिन
ये सिर्फ क्रिया नहीं एक राग भी है

दुखभरा हो कि सुखभरा
इसे गाया जाता रहेगा
हमेशा
हर कहीं
हर जगह।

4 comments:

  1. hi, i am 'RAGINI' and you are the poet who wrote those beautiful poems based on 'RAAGS'. You did a great job.

    ReplyDelete
  2. जीवन का राग दुख भरा हो या सुख भरा गाना ही पडता है । वाह क्या बात है...मित्र

    ReplyDelete
  3. बहुत प्यारा लिखा सर। धन्यवाद।

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails