Friday, October 5, 2007

शिरीष कुमार मौर्य

ये उर्वर दिन और रात
पल्लवी कपूर को याद

उसका घर कहीँ नहीं था

वह रात में रह सकती थी
डरावने घटाटोप और तमाम दुस्वप्नों के बावजूद
बस सकती थी दिन के उजाले में भी
मूँद कर अपनी आंखें
चुन्धियाती हकीकतों को धता बताती

वह जा सकती थी रात और दिन की हदों से भी बाहर
किसी अनजान दुनिया में
फिर अचानक मुझे पुकारती
लौट आती

उसका ह्रदय काँपता था
मुझसे बात करते
कभी उत्तेजना तो कभी हताशा से

उसके भीतर
हज़ारों मधुमक्खियों का गुंजार था
मानो
किसी गुप्त कोष में संचित शहद को
बचाता हुआ

उसे कुछ नहीं आता था
वैसे थी बहुत होशियार
बेहद कामयाब
बड़ी बड़ी कंपनियों के खाते जांचती
कुशल लेखाकार

लेकिन उसे कुछ नहीं आता था
न बात करना
न बात सुनना
न ग़ुस्सा करना
न ग़ुस्सा सहना

बकौल खुद
प्यार करना भी नहीं आता था उसे
अपने ही मर्म को कुरेदती किसी अभिशापित मुनिकन्या सी
वह जैसे तीन हज़ार बरस पहले के वन में
भटकती थी

मैं उसकी पहुंच से उतना ही बाहर था
जितना कि अमरुद के पेड पर चढ़ी कोई चपल
गिलहरी

उसे इसका कोई गम नहीं था
कहती -- गिलहरियाँ तो देख कर खुश होने को होती हैं
पकड़ कर बांधने को नहीं

मेरे पास कोई दिलासा नहीं था उसके लिए
लेकिन हज़ारों थे उसके पास

और उन्हीं में से एक सबसे खास को चुनकर मेरे लिए
ठीक मेरे जन्मदिन वाले रोज़
एक भयानक सड़क दुर्घटना के बाद
अस्पताल के
बेदाग़
सफ़ेद
स्वप्न हीन बिस्तर पर
छट पटाती
वह चली गयी आख़िरी बार रात और दिन की
सरहदों से बाहर

अब भी मैं जैसे सुन पाता हूँ उसकी पुकार
किसी गहरे आदिम बुखार में
बड़ बडाता
पसीना पसीना

अचानक कहीँ से आकर थाम लेता है
कोई हाथ

गिरते गिरते
स्मृति की अंतहीन खाई में
लौट आता हूँ
फिर फिर रहने को इसी चहल पहल भरी दुनिया में
अगोरता
किसी कर्मशील किसान सा
उसके बाद भी बचे हुए
जीवन के
ये कई कई उर्वर दिन और रात .......

(पल्लवी का २८ की उम्र में १३ दिसंबर को इन्दौर में देहांत हो गया)

6 comments:

  1. बहुत मार्मिक और परेशान करनेवाली कविता....क्या कहें और ..कुछ कहा नहीं जाता

    ReplyDelete
  2. Bade bhai apne wakai is kavita ke dukh ko mehsus kiya. shukriya.

    ReplyDelete
  3. aisi hi smriti hame bechain karti hai, aadmi banati hai. yh kavita bahut touchi hai

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण कविता

    ReplyDelete

यहां तक आए हैं तो कृपया इस पृष्ठ पर अपनी राय से अवश्‍य अवगत करायें !

जो जी को लगती हो कहें, बस भाषा के न्‍यूनतम आदर्श का ख़याल रखें। अनुनाद की बेहतरी के लिए सुझाव भी दें और कुछ ग़लत लग रहा हो तो टिप्‍पणी के स्‍थान को शिकायत-पेटिका के रूप में इस्‍तेमाल करने से कभी न हिचकें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखे हैं, कोई एकाउंट न होने की स्थिति में अनाम में नीचे अपना नाम और स्‍थान अवश्‍य अंकित कर दें।

आपकी प्रतिक्रियाएं हमेशा ही अनुनाद को प्रेरित करती हैं, हम उनके लिए आभारी रहेगे।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails